Friday, August 6, 2010

बाल की खाल







ये बाल भी बड़ी विचित्र चीज़ है.



एक तो जगह के साथ इसका नाम बदल जाता है – सर पर बाल, माथे पर भों ,होठों पर मूंछ, गलों पर दाढी और ...........



दूसरे, ये कोई मृत पदार्थ नहीं है, शरीर का एक जीवित हिस्सा है पर आप इन पर बेरहमी से कैंची चला सकते हैं ,और आपको बिलकुल भी दर्द नहीं होगा. बल्कि हजारों लोगों की तो रोजी – रोटी ही इसी धंधे से चलती है.



तीसरे शरीर के बाकी हिस्सों की बढ़त तो वयस्क होने पर रुक सी जाती है पर बाल कितने भी ब्रद्ध होने पर भी लगातार बेलगाम बढ़ते रहते है.



इन विचित्रताओं के कारण ही शायरों ने इन पर हजारों शेर और गाने लिख डाले है और हसीनाएं (कुछ हसीन भी) इस पर अपना ढेर सा वक्त खर्च कर डालती है. फिल्मों में तो हेयर स्टाइलिश आदमी का रूप ही बदल देते है.



बाल अगर झडने लगे तो हमें इनकी कमी का असली अहसास होता है. जब हम इनको पूरी तरह से खो देते हैं तो अक्कासर दूसरों के मजाक का पात्र बन बैठते हैं. अकसर दुख: के समय (जैसे किसी बड़े बूडे की मौत) इन्हें शरीर से विदा करने की परंपरा देखी जा सकती है.



बाल बड़ी बेशर्मी से शरीर के किसी भी अंग पर उगने की ताकत रखते हैं पर कुछ लोगों से इनकी ये बढ़त देखी नहीं जाती और वो उन्हें जब मौका लगे उड़ाने की फ़िराक में रहते है. बहुत सी कम्पनी तो बाल उड़ाने के यंत्र और दवाईयाँ बना कर ही करोडो रुपये कमा रही हैं.



कई समझदार लोग इनकी देखभाल में कोई कसर नहीं छोडते और फिर अच्छे बालों के कारण ही अपनी पहचान बनाते हैं. सिख जाति में बाल कटना वर्जित है तो उसका इनाम उन्हें ये मिलता है कि उन्हें हेलमेट खरीदने पर पैसे खर्च नहीं करने पड़ते.



हमें सर पर तो बालों को ताज बना कर बिठाना मंज़ूर है पर गालों से इनकी नज़दीकियाँ नागवार गुज़रती है इसलिए शेविंग को अकसर लोगो ने अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना डाला है है और चिकने गालों (सुंदरियाँ 'गालों' की जगह 'टाँगें' पढ़े ) को सुंदरता का पैमाना.





बाल की खाल निकालने वालों की इस दुनिया में पहले ही से कमी नहीं और आज एक और (मैं भी) शामिल हो चला है.


चित्र साभार http://www.freedigitalphotos.net/

No comments:

Post a Comment