Tuesday, May 6, 2014

पत्नी और प्रेमिका

पत्नी

*किसी software का licencing agreement पढ़ना और अपनी पत्नी की बातें सुनना बिलकुल एक जैसा ही काम है.
आप हर बात को ignore करते हैं और अंत में click करते है- ‘I AGREE’. 


*मैंने प्रार्थना की थी कि मुझे ऐसी पत्नी देना जिसे अच्छा पकाना आता हो.  पर ये मैं क्या कर बैठा. पकाने से पहले खाना तो कहना मैं भूल गया था.
मेरी प्रार्थना शब्दतः सुन ली गयी और मैंने ईश्वर से जो माँगा उसने मुझे दे दिया. अपनी एक गलती की इतनी बड़ी सजा मैं आज तक भुगत रहा हूँ.


*“क्या हुआ होठ कैसे सूज रहे है?”
“पत्नी को मइके के लिए ट्रेन में बैठ कर आ रहा हूँ”
“तो उससे होठों का क्या सम्बन्ध?”
“ उतावलेपन में खुशी का इजहार करते हुए मैंने ट्रेन के इंजिन को चूम लिया था”

प्रेमिका

उसके प्रणय निवेदन पर उसकी प्रमिका पहले तो कुछ देर सोचती रही फिर बोली, ‘ देखो तुम्हें तो पता ही है की मेरा boss आजकल मेरे पीछे पड़ा हुआ है और नौकरी बचाने की खातिर मुझे उसे oblize करना ही पड़ेगा. फिर मेरे ex बॉयफ्रेंड ने भी मेरी ही खातिर इसी हफ्ते सामने वाला घर किराये पर लिया है ,उसे मैं कैसे मायूस कर सकती हूँ. और तुम ये भी जानते होगे कि रमेश को तो मैं like करती हूँ कॉलेज के दिनों से , वो भी इसी शहर में आ गया है. और तुमसे तो ये भी छूपा नहीं है की अजय से मेरा affair चल रहा है.
इन हालातों में तुम्हारा प्रस्ताव स्वीकार करने में मुझे परेशानी हो रही है.

उसने फरियाद लगाई , ‘देख लो, अगर तुम्हारे busy schedule में मैं कहीं adjust हो जाऊ !


No comments:

Post a Comment