Monday, October 23, 2017

दोगलेपन से मुक्ति

दोगलेपन के जीवन के हम आदी हो गए हैं. वैसे तो हम अपने को देशभक्त और जिम्मेदार नागरिक समझते हैं पर टैक्स चोरी के नए-नए तरीके आजमाने को हमेशा तैयार रहते हैं. हमें अपनी ही सरकार पर विश्वास नहीं कि वह टैक्स की कमाई से न्याय करेगी. हर परिवार या गुरु प्रकट रूप से तो भाई चारे और अमन का पाठ पढ़ाता है पर अंदर से दूसरों को रोंद कर आगे निकलने के लिए हमें उकसाता है और तैयार भी करता रहता है. यही सब सीखते समझते हम अक्सर बड़े होते हैं. भ्रष्टाचार, अशांति, हिंसा व् व्यभिचार इसी दोगलेपन से निकली समस्याएं हैं
आमतौर पर चीजों को दो तरह के चश्मे से देखते हैं एक अपने / अपनो के लिए तो  दूसरा  किसी और  के लिए. पर एक सच्चे योगी के मन में अपने पराये का ये भेद नहीं रहता है. वह अपने से भी उसी तरह का व्यवहार करता है जैसे वह और किसी इंसान के साथ करता.
सादगी को एक कमजोरी और गाली के रूप में देखा जाने लगा है, पर यही हमारी असली शक्ति है और हर समस्या से निजात दिलाने की ताकत रखती है

योग की तकनीक का निष्ठा पूर्वक मन से पालन करने पर हमें दोगलेपन से मुक्ति मिलती है. यही सच्चा निर्वाण है. 

No comments:

Post a Comment