Friday, June 29, 2018

योग


योग शब्द का अर्थ है मिलन.
आखिर यह मिलन किसका किससे है?
हमारे शरीर और जीवन में हमेशा उपस्तिथ दो द्वन्द्कारी शक्तियां (जिन्हें अनेको नाम से पुकारा जाता है) के स्वाभाविक और सुन्दर मिलन ही योग है.
ये शक्तियां हमारे व्यक्तित्व को बांटने की फिराक में रहती है. इन्हें कुछ लोग भौतिक-आत्मिक या सूक्ष्म-स्थूल शक्तियों के नाम से जानते हैं तो कुछ सैधान्तिक-व्यवहारिक द्रष्टिकोण या तार्किक-भाव पक्ष की मन:स्तिथि कह कर बुलाते है. अनेको सन्दर्भों में  इस विभाजनकारी शक्तियों को शिव-पार्वती, नर-मादा, नया-पुराना, आक्रामक-सुरक्षात्मक, हठी-लचीला, अँधेरा-उजाला, ठंडा गर्म आदि विशेषण देकर पुकारा जाता है.
जैसे परिवार में समझदार मुखिया के प्रभाव से पति-पत्नी, भाई बहन, सास-बहु, बाप-बेटा आदि अलग अलग द्रष्टिकोण रखने के बाबजूद कलह की बजाय आनंदपूर्वक रहते है
जिस प्रकार एक कुशल राष्ट्राध्क्ष के प्रभाव से अनेक प्रान्तपाल भिन्न भिन्न मत और रूचि के होते हुए भी मतभेद से ऊपर उठकर एक शक्तिशाली राष्ट्र का निर्माण कर डालते है
जिस प्रकार एक कुशल अधिकारी के प्रभाव से कोई संस्था अपने पदाधिकारियों के काम करने के ढंग और योग्यता में बड़ा अंतर होने के बाबजूद सबके भले के लिए अपना अस्तित्व बनाये रहती है
ठीक इसी तरह से योग विद्या के प्रभाव से कोई भी व्यक्ति अपने तन-मन और जीवन में विद्यमान द्वन्द्कारी शक्तियों की उपस्तिथि के बाबजूद उन शक्तियों के माध्यम से ही अपने जीवन में हर परिस्तिथि में आनंद और उत्सव की सी स्तिथि का निर्माण कर डालता है .

No comments:

Post a Comment