Saturday, March 16, 2019

दर्जी


बाज़ारीकरण के इस दौर  में बेचारे
दर्जी कहीं खोते जा रहे हैं
और हम सिले हुए कपड़ों की जगह रेडीमेड कपड़ों के 
आदी होते जा रहे हैं

और फिर  हमारे रिश्ते भी तो
आजकल रेडीमेड कपड़ो कि तरह हो गए है
इसकी भीनी भीनी सी खुशबू कहीं उड़ चुकी है
इनमें गुंथे हुए अरमान कहीं खो गए है

जो पसंद आ गया तो खरीद डाला
जब तक मन भाया रगड़ डाला
लो हो गयी लाइफ झिंगालाला

इस्तेमाल के बाद बासी खबर की तरह किसी कोने में गुम हो जाते हैं
मर मर के जिन्दा तो रहते हैं पर नज़र कहीं नहीं आते हैं
इस तरह नए आने वाले रिश्तों के लिए जगह बनाते हैं
और ज़िन्दगी की गाड़ी को आगे बढ़ाते हैं

अगर आपकी जेब में पैसा है
तो आप इस लुप्त होती प्रजाति को भी पाल सकते हैं
जो आपकी पर्सनाल्टी में जान डाल सकते हैं
इनके दम पर आप बड़े ठाठ से रहते हैं
पर अमीरों की दुनियां में
इन्हें दर्जी नहीं डिज़ाइनर कहते हैं


No comments:

Post a Comment